UPSC

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन क्या है। Ayushman Bharat Digital Mission in Hindi for UPSC

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वर्ष 2020 में शुरू किए गए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  के विषय में आज लगभग सभी लोग जानते हैं। प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत करना भारत में स्वास्थ्य सुविधा को और बेहतर तथा सभी ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य की सुविधा उपलब्ध के लिए एक मुख्य योजना मानी जाती है।

भारत में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  का राष्ट्रव्यापी रोलआउट राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर किया गया है।भारत में चर्चित आयुष्मान भारत योजना एक ऐसी स्वास्थ्य योजना है| जिसे सर्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज के दृष्टिकोण को और भी मजबूती देने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 की अनेक कोशिशों के बाद शुरू किया गया था।

आपको बता दें कि भारत में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  को राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन के रूप में भी जाना जाता है। आइए आप जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू किए गए इस आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के क्या प्रमुख बिंदु रहे और इस योजना से आपको क्या-क्या सुविधाएं उपलब्ध हो सकती हैं।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission) क्या है?

प्रधानमंत्री के द्वारा शुरू किए गए इस योजना का मुख्य उद्देश्य सभी भारतीय नागरिकों को बीमा कंपनियों, अस्पतालों तथा आवश्यकता पड़ने पर डिजिटल रूप से स्वास्थ्य रिकॉर्ड तक पहुंचाने में सहायता करने के लिए, नागरिकों को डिजिटल स्वास्थ्य आईडी प्रदान करना है। प्रधानमंत्री के द्वारा 15 अगस्त 2020 को दिल्ली के लाल किले की प्राचीर से इस मिशन के पायलट प्रोजेक्ट की घोषणा की गई थी। मौजूदा समय में यह योजना भारत के 6 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में चरण दर चरण रूप से लागू की जा रही है।

UPSC Topper Kanishak Kataria Answer Sheet of GS Mains Pdf Download.

Ayushman Bharat Digital Mission की विशेषताएं:-

  1. प्रत्येक नागरिक को स्वास्थ्य आईडी कार्ड:-
  2. आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  के अंतर्गत भारत के प्रत्येक नागरिक को एक स्वास्थ्य आईडी कार्ड प्रदान किया जाएगा जो नागरिक के स्वास्थ्य खाते के रूप में भी उपयोगी होगा। इस स्वास्थ्य आईडी कार्ड से नागरिक हर प्रकार के परीक्षण, बीमारी, डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लेना तथा डॉक्टर की सलाह से ली गई दवाई तथा उनके निदान का संपूर्ण विवरण प्राप्त होगा।
  3. इस स्वास्थ्य आईडी कार्ड से नागरिकों को स्वैच्छिक और निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध होगी। यहां स्वास्थ्य डेटा (Data) का विश्लेषण करके प्रत्येक वर्ष स्वास्थ्य से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियों को हासिल करने में मदद करें। देश में स्वास्थ्य कार्यक्रमों को और बेहतर प्रकार से संचालित करना, बजट से संबंधित जानकारी तथा कार्य को सुचारू रूप से संचालित करने हेतु सभी सुविधाएं का सुनिश्चित करना भी इस आईडी से सरल होगा।
  4. पेशेवर रजिस्ट्री और स्वास्थ्य देखभाल की सुविधा:-
  5. इस मिशन के कार्यक्रम के अंतर्गत आने वाले कुछ अन्य प्रमुख घटक जैसे हेल्थ केयर फैसिलिटी रजिस्ट्री और हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री को भी सम्मिलित किया गया है। इसे घटक के आ जाने से नागरिकों को मेडिकल प्रोफेशनल्स और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तक आसानी से इलेक्ट्रॉनिक एक्सेस की भी अनुमति प्राप्त हो जाएगी।
  6. हेल्थ केयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री चिकित्सीय सुविधा की आधुनिक और पारंपरिक दोनों ही प्रणालियों में नागरिकों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाले स्वास्थ्य पेशेवरों का एक व्यापक डिजिटल स्वरूप होगा। अर्थात डिजिटल रूप से सभी नागरिकों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान की जाएगी।
  7. हेल्थ केयर फैसेलिटीज रजिस्ट्री के अनुसार देश के सभी स्वास्थ्य सुविधाओं का रिकॉर्ड रखा जाएगा जिससे नागरिकों पर सभी स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां आसानी से उपलब्ध हो जाएंगी।
  8. आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission) का सैंडबॉक्स:-
  9. प्रधानमंत्री के द्वारा संचालित इस मिशन के एक हिस्से के रूप में निर्मित सैंडबॉक्स, प्रौद्योगिकी और उत्पाद परीक्षण के लिए एक रूपरेखा के रूप में कार्य करने हेतु बनाया गया है। जिससे स्वास्थ्य संगठनों को मदद मिलेगी। इसके द्वारा राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य परिस्थितिकी तंत्र का हिस्सा बनने के लिए इच्छा रखने वाले प्राइवेट प्लेयर्स भी शामिल होते हैं। स्वास्थ्य सूचना उपयोगकर्ता या स्वास्थ्य सूचना प्रदाता के द्वारा आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  के बिल्डिंग ब्लॉक्स के साथ सभी आसानी से जुड़ सकते हैं।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन से मिलने वाले लाभ:-

  • इस योजना के द्वारा डॉक्टर और अस्पताल तथा स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाले लोगों के लिए व्यवसाय करने में सरलता होगी।
  • स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाले लोगों की सहमति से देश में रहने वाले नागरिकों के देशांतरीय स्वास्थ्य रिकॉर्ड तक पहुंचे तथा नागरिकों के स्वास्थ्य संबंधी रिकॉर्ड का आदान-प्रदान भी होने में सरलता होगी।
  • डिजिटल रूप से भुगतान करने के प्रणाली में आई क्रांतिकारी बदलाव में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) द्वारा भी कई भूमिकाएं निभाई गई है। इसी प्रणाली पर डिजिटल स्वास्थ्य परिस्थितिकी तंत्र में एकाग्रता और एकीकृत करने में सहायता प्राप्त होगी।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  का उपयोग करके देश का प्रत्येक नागरिक अपने स्वास्थ्य की सुविधाओं से संबंधित जानकारियां तथा चिकित्सीय सुविधा के विषय में सभी प्रकार की सहमति तथा विचारों में अपनी भूमिका निभा सकेगा।

जैसा कि आप जानते हैं कि जब किसी भी देश के लोगों की डिजिटल रूप से डाटा को एकत्र किया जाता है तो कुछ चिंताएं भी अवश्य आती हैं। आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  के द्वारा कौन-कौन से चिंताएं संभव हो सकती हैं आइए इस विषय पर चर्चा करें।

Ayushman Bharat Digital Mission से जुड़ी चिंताएं:-

  • इस मिशन में डेटा (Data) सुरक्षा बिल की कमी है जिसका कारण या हो सकता है कि निजी फर्मो तथा बेड प्लेयर के द्वारा इन डाटा का दुरुपयोग भी किया जा सकता है।
  • यदि देश में किसी भी प्रकार से नागरिकों में बहिष्कार होता है अथवा डिजिटल प्रणाली में किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो नागरिकों को स्वास्थ्य सेवा से वंचित होना भी पड़ सकता है।

प्रधानमंत्री के द्वारा संचालित आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  आगे चलकर कितना सफल होगा आइए के विषय में जानकारी बात करते हैं।

  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  को अभी भी स्वास्थ्य के लिए न्यायिक रुप से मान्यता प्राप्त नहीं हुई है। 2015 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति के द्वारा एक मानक तैयार किया गया था जिसके अनुसार किसी भी स्वास्थ्य मिशन को अधिकार देने के लिए योजना में एक पोस्ट ड्राफ्ट का होना आवश्यक है। इन्हीं कारण से इन मिशन को संपूर्ण देश में अभी तक लागू नहीं किया गया।
  • विश्व में सबसे मजबूत देश माना जाने वाला यूनाइटेड किंगडम में इसी प्रकार की एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा का शुभारंभ किया गया था। किंतु यहां राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन सफल नहीं हो पाया था। इसलिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission)  को अखिल भारतीय स्तर पर शुरू करने से पहले सरकार को तकनीकी तथा मिशन से जुड़े सभी कर्मियों को सक्रियs रूप से तैयार एवं संबोधित करने की भी आवश्यकता है।
  • पूरे भारतवर्ष में राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन आर्किटेक्चर के मानवीकरण हेतु राज्यों के विशिष्ट नियमों को समायोजित करने के लिए बेहतरीन तरीकों की खोज करनी आवश्यक है।
  • भारतवर्ष में संचालित अनेक सरकारी योजनाएं जैसे आयुष्मान भारत योजना और अन्य इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी (IT) से सक्षम योजनाएं जैसे प्रजनन बाल स्वास्थ्य देखभाल एवं निक्षय पोषण योजना आदि के साथ कदम से कदम मिलाकर तालमेल बिठाने की आवश्यकता है।

आज के इस लेख में हमने आपको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लाल किले की प्राचीर से घोषित किए गए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के विषय में विस्तार से जानकारी दें।इस लेख में हमने आपको आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन उपलब्धियां, उनके मुख्य बिंदु, उद्देश्य, मिशन से मिलने वाली सुविधाएं तथा कुछ असुविधाओं के विषय में विस्तार से जानकारी दें।

आप अपनी राय हमारे इस लेख तथा प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा घोषित किए गए आयुष्मान भारत डिजिटल (Ayushman Bharat Digital Mission)  मिशन पर अवश्य दे। अगर आप सिविल सर्विसेज या भारतीय सशस्त्र बल की परीक्षा की तैयारी से संबंधित जानकारियां तथा नोट्स प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे साथ लगातार बने रहे। आपकी राय हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करेंगे। ‌

Leave a Comment