Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams

हेल्लो दोस्तों Wifigyan की वेबसाइट पर आप सभी छात्र-छात्राओं के स्वागत हैं. दोस्तों आज हम आप सभी के साथ एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय शेयर कर रहे हैं जो Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams से सम्बंधित हैं. हम आप सभी को नीचे लिस्ट के माध्यम से शिक्षा के प्रकार के बारे में सम्पूर्ण अध्यन करेंगे जो आप सभी के आने वाली ‘APS, DSSSB, KVS, CTET, UPTET, PRT, TGT, PGT,2018-19’ Form of Education परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण विषय हैं. शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार आज इस Topic को हम Detail में जानेंगे

Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams
Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams

Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams:-

  1. औपचारिक शिक्षा (Formal Education)
  2. अनौपचारिक शिक्षा (Informal Education)
  3. निरौपचारिक शिक्षा (Non-formal Education)

दोस्तों Form of Education को Detail में जानेंगे सारी की सारी चाजें, इन से सम्बंधित जो Questions बनेंगी ओ 4, से 5 Questions की बनेंगी चाहे ओ कोई सा भी Teaching Exams हो. तो दोस्तों आज के Form of Education के बारे में Step by Step बात करेंगे|दोस्तों सबसे पहले तो एक Defination जिसके अन्दर हम शिक्षा के बारे में थोडा सा Describe करेंगे.

शिक्षा में ज्ञान, उचित आचरण और तकनीकी दक्षता, शिक्षण और विद्या प्राप्ति आदि समविष्ट हैं| इस प्रकार यह कौशलों (Skils), व्यापारों या व्यवसायों एवं मानसिक, नैतिक और सौन्दैर्यविषयक के उत्कर्ष पर केन्द्रित होती है|

तो दोस्तों Particuler शिक्षा में कौन-कौन से विषयों को सामिल किया जाता है या समिलित किया जाता हैं वह सभी जानकारी यहाँ पर Mention किया गया है| इसी कड़ी में हम आगे बात करेंगे|

जब हम शिक्षा शब्द के प्रयोग को देखते हैं तो मोटे तौर पर यह दो रूपों में प्रयोग में लाया जाता है, व्यापक रूप में तथा संकुचित रूप में|

व्यापक रूप में शिक्षा:-

व्यापक अर्थ में शिक्षा किसी समाज में सदैव चलने वाली सौदेश्य प्रणाली प्रक्रिया है जिसके द्वारा मनुष्य की जन्मजात शक्तियों का विकास, उसके ज्ञान एवं कौशल में वृद्धि एवं व्यवहार में परिवर्तन किया जाता है और इस प्रकार उसे सभ्य,सुसंस्कृति एवं योग्य नागरिक बनाया जाता है| मनुष्य छड़-प्रतिक्षण नए-नए अनुभव प्राप्त करता है व करवाता है, जिससे उसका दिन प्रतिदिन का व्यवहार प्रभावित होता है| उसका या सीखना सिखाना विभिन्न समूहों, उत्सवों, पत्र-पत्रिकाओं, दूरदर्शन आदि से अनौपचारिक रूप से होता है| यह सीखना सिखाना शिक्षा के व्यवहार तथा विस्तृत रूप में आते हैं|

संकुचित अर्थ में शिक्षा:-

संकुचित अर्थ में शिक्षा किसी समाज में एक निश्चित समय तथा निश्चित स्थानों (विद्यालय, महाविद्यालय) में सुनियोजित ढंग से चलने वाली एक सौदेश्य सामाजिक प्रक्रिया है जिसके द्वारा छात्र निश्चित पाठ्यक्रम को पढ़कर अनेक परीक्षाओं को उत्तीर्ण करना सीखता है|

दोस्तों यहाँ पर शिक्षा को दो भागों में विभाजित किया गया हैं व्यापक और संकुचित, तो दोस्तों इन दोनों के बारे में तो हमने आप सभी को बता दिया है| अब हम आगे इसको Detail में जानेंगे

शिक्षा पर दिए गए महत्वपूर्ण विचार:-

दोस्तों आप सभी के लिए शिक्षा पर विद्वानों के द्वारा दिए गये कुछ महत्वपूर्ण विचारों को हम नीचे शेयर कर रहे हैं| दोस्तों कुछ हमारे विद्वान हैं जो बहुत ही ज्यादा Famous रहे  हैं, जिन्होंने शिक्षा पर अपना-  अपना कथन  दिया है

समाज शास्त्रियों, मनोवैज्ञानिक व नीतिकारों ने शिक्षा के संबंध में अपने विचार दिए हैं| शिक्षा के अर्थ को समझने में यह विचार भी हमारी सहायता करते हैं| कुछ शिक्षा संबंधी मुख्य विचार यहां प्रस्तुत किए जा रहे हैं

  1. शिक्षा से मेरा तात्पर्य बालक और मनुष्य के शरीर, मन तथाआत्मा के सर्वांगीण एवं सर्वोत्कृष्ट विकास से है| (महात्मा गाँधी)
  2. मनुष्य की अंतर्निहित पूर्णता को अभिव्यक्त करना ही शिक्षा है| (स्वामी विवेकानंद)
  3. शिक्षा व्यक्ति की उन सभी भीतरी शक्तियों का विकास है जिससे वह अपने वातावरण पर नियंत्रण रख कर अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन कर सके (जॉन क्यूबी)
  4. शिक्षाविद के समन्वित विकास की प्रक्रिया है| (जिद्दू कृष्णमूर्ति)
  5. शिक्षा का अर्थ अंतः शक्तियों का व्वाह्य जीवन से समन्वय स्थापित करना है| (हबर्ट स्पैन्सर)
  6. शिक्षा मानव की संपूर्ण शक्तियों का प्राकृतिक, प्रगतिशील और सामंजस्य पूर्ण विकास है| (पिस्तालॉजी)

तो दोस्तों यह कुछ महत्वपूर्ण विचार हैं जो अलग-अलग प्रसिद्ध मनोविज्ञानिक नितिकरों समाजकरों ने दिया हैं और Particular इन से भी सम्बंधित प्रश्न पूछे जा सकते हैं तो इन सभी चीजों को भी ध्यान में जरुर रखें|

Form of Education शिक्षा के रूप, शिक्षा के प्रकार For Teacher Exams

दोस्तों अब हम सभी अपने महत्वपूर्ण Topic पर आते हैं जिसका नाम हैं शिक्षा के प्रकार व्यवस्था की दृष्टि से देखें तो शिक्षा के तीन रूप होते हैं-

  1. औपचारिक शिक्षा
  2. निरौपचारिक शिक्षा
  3. अनौपचारिक शिक्षा

तो दोस्तों इन तीनों Topics को अब हम Details में जानेंगे जो इन सभी से सम्बंधित प्रश्न को भी इसमें सामिल करेंगे|

औपचारिक शिक्षा (Formal Education):-

इस शिक्षा का तात्पर्य उस शिक्षा से है जो जानबूझ कर दी जाती है, औपचारिक शिक्षा प्रदान करने का सबसे महत्वपूर्ण स्थान विद्यालय है, विद्यालय द्वारा ही मात्र भाषा, विज्ञान, गणित, भूगोल, इतिहास आदि विषयों की शिक्षा दी जाती है जो औपचारिक शिक्षा है| औपचारिक शिक्षा को प्रदान करने के लिए नियमित रूप से अभिकरण स्थापित होते हैं वह पाठ्यक्रम बनाए जाते हैं पाठ्यक्रम को पूरा करने के लिए सुनियोजित कार्यक्रम बनाया जाते हैं, जिसके आधार पर बालक शिक्षा ग्रहण करता है और अंत में छात्रों का मूल्यांकन किया जाता है| निजी ट्यूशंस के द्वारा भी औपचारिक शिक्षा दी जाती है| औपचारिक शिक्षा वह शिक्षा है जो जिसको पूर्ण आयोजन नियोजन व संप्रत्ययसील उपायों से प्रदान किए जाएं| औपचारिक शिक्षा के लिए उद्देश्य पाठ्यक्रम शिक्षण विधियों का भी सुनिश्चित आयोजन किया जाता है औपचारिक शिक्षा व्यवस्थित रूप में प्रदान की जाती है|

औपचारिक शिक्षा की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं:-

  • यह शिक्षा स्कूलों द्वारा प्रदान की जाती है|
  • औपचारिक शिक्षा में सुनियोजित व्यवस्था की आवश्यकता होती है|
  • औपचारिक शिक्षा बहुत ही कष्ट साध्य है तथा परिश्रम चाहती है|
  • यह शिक्षा जीवन प्रयत्न चलती रहती है|
  • औपचारिक शिक्षा अप्राकृतिक कृत्य जटिल होती है|
  • इस प्रकार की शिक्षा में निश्चित पाठ्यक्रम को निश्चित समय में पूर्ण किया जाता है|
  • औपचारिक शिक्षा भौतिक होती है|
  • औपचारिक शिक्षा के उद्देश्य सुनिश्चित होते हैं|

अनौपचारिक शिक्षा (Informal Education):-

विद्यालयों में बालक केवल कुछ ही विषयों का ज्ञान प्राप्त कर पाते हैं पढ़ना लिखना या ज्ञान प्राप्त करना ही शिक्षा नहीं है, शिक्षा विस्तृत व व्यापक है| हम अपने अच्छे और बुरे अनुभव व ज्ञानेंद्रियां के अनुभव से शिक्षा ग्रहण करते हैं |शिक्षा सभी प्रकार के अनुभवों का योग है, जिसे मनुष्य अपने जीवन काल में प्राप्त करता है| औपचारिक साधनों के द्वारा जो शिक्षा प्राप्त होती है वह औपचारिक शिक्षा कहलाती है तथा जो शिक्षा अनौपचारिक साधनों से प्राप्त होती है वह अनौपचारिक शिक्षा कहलाती है|

अनौपचारिक शिक्षा की विशेषताएं:-

  • यह शिक्षा जन्म से मृत्यु तक चलती है|
  • अनौपचारिक शिक्षा के लिए किसी व्यवस्था की आवश्यकता नहीं पड़ती|
  • अनौपचारिक शिक्षा स्वभाव सरल तथा प्राकृतिक रूप में होती है|
  • यह शिक्षा प्राप्त करने के लिए विद्यालयों की आवश्यकता नहीं है|
  • अनौपचारिक शिक्षा चारों ओर के वातावरण परिवार समाज व पड़ोस आदि से प्राप्त होती है|
  • अनौपचारिक शिक्षा मानव की कुल प्रवृत्तियों तथा उसकी रुचि पर निर्भर करता है|
  • यह जीवन प्रयत्न चलने वाली प्रक्रिया|

निरौपचारिक शिक्षा (Non-formal Education):-

औपचारिक व अनौपचारिक शिक्षा की कमियों को देखते हुए शिक्षा का एक नया रूप विकसित किया गया है जो ना तो पूरी तरह औपचारिक शिक्षा के समान बंधन युक्त व्यवस्थित कृतिम तथा व्यवहारिक ही था और ना ही अनौपचारिक शिक्षा के समान पूर्ण स्वाभाविक मुक्त तथा प्राकृतिक ही था यह शिक्षा का नया स्वरूप दोनों शिक्षा का मिलाजुला रूप था जिसे निरोप चारिक शिक्षा के नाम से जाना जाता है निरोप चारिक शिक्षा में बंधनों के साथ साथ स्वतंत्रता इसमें शिक्षा के निश्चित कार्यक्रम रहता है लेकिन यह स्थान वातावरण वर्ग उम्र आज के बंधनों से मुक्त रहती है

इसे भी पढ़ें:- CTET Educational Psychology Notes (शिक्षा मनोविज्ञान) Download Now

इसे भी पढ़ें:- REET Child Development and Psychology Book Download For CTET/TET

प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए Free Study Material Download करने के लिए  Wifigyan.com पर रेगुलर Visit करते रहे|और अगर आप लोगो को हमारा यह प्रयास अच्छा लगे तो हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों तक जरुर पहुचाये  इससे उनको भी फयदा होगा |हमारा यह प्रयास की आप लोगो को फ्री Study Material मिलता रहे सतत जारी रहेगा |धन्यवाद |

इसे भी पढ़ें:- Child Development and Pedagogy Notes for CTET Exams Download

इसे भी पढ़ें:- UPTET CTET Math Book by Ghatna Chakra Pdf Download

Related Post:-

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends on social media. To get daily information about our post please Click The Bell Icon Which is Given Below.

Disclaimer
Wifi Gyan does not own this book, neither created nor scanned. We just provide the link already available on the internet. If anyway it violates the law or has any issues then kindly mail us: wifigyan.com@gmail.com
error: Content is protected !!