Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams

Hello Friends, आज Wifigyan.com आप सभी Dear Readers के लिए Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams लेकर आये है| हम आप सभी छात्रो के जानकारी के लिए बता दे की आज जो मैं पीडीऍफ़ शेयर करने जा रहा हूँ उसमे मौर्य वंश से संबंधित उसके समस्त पहलुओ का विस्तार और उस पर आधारित प्रश्नोत्तर को भी तैयार किया गया है| जो की UPSC Exams से संबंधित आगामी प्रतियोगी परीक्षा के तैयारी  हेतु बहुत ही उपयोगी रहेगा| इस पीडीऍफ़ के समस्त टॉपिक और इसके कुछ प्रश्नोत्तर को नीचे लिख दिया गया है बाकि के प्रश्नोत्तर को पढ़ने के लिए आप सभी छात्र इस पीडीऍफ़ को जरुर डाउनलोड कर लीजिये, जिससे अपने आगामी परीक्षा को और बेहतर बना सके|

Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams
Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams

Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams:-

दोस्तों इस पीडीऍफ़ को Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) पर क्लिक करके इस पीडीऍफ़ को डाउनलोड कर सकते है, जिसका लिंक नीचे लगा दिया गया है| तथा इससे संबंधित कुछ और पीडीऍफ़ का भी लिंक लगा दिया गया है जिसे आप सभी छात्र डाउनलोड करके प्राप्त कर सकते है, इस पीडीऍफ़ को डाउनलोड करने का कोई चार्ज नहीं है| तो दोस्तों इस पीडीऍफ़ को डाउनलोड करके जरुर पढ़िए और यदि यह पीडीऍफ़ आप सभी को पसंद आये तो अपने दोस्तों साथ साझा जरुर करिए|

History Of Mauryan Empire:- 

मौर्य राजवंश प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली एवं महान राजवंश था| इसने 137 वर्ष भारत में राज किया| इसकी स्थापना का श्रेय चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मंत्री आचार्य चाणक्य को दिया जाता है, उन्होंने नन्दवंश के सम्राट घनानंद को पराजित किया| यह साम्राज्य पूर्व में मगध राज्य में गंगा नदी के मैदानों से शुरू हुआ| इसकी राजधानी पाटलिपुत्र (अब का पटना) थी| मौर्य साम्राज्य 52 लाख वर्गकिलोमीटर तक फैला था|

मौर्य वंश की स्थापना:-

325 ईसापूर्व में उत्तर पश्चिमी भारत (आज के पाकिस्तान का लगभग सम्पूर्ण इलाका) सिकंदर के क्षत्रपों का शासन था| जब सिकंदर पंजाब पर चढ़ाई कर रहा था तो एक ब्राह्रमण जिसका नाम चाणक्य था (कौटिल्य नाम से भी जाना जाता था तथा वास्तविक नाम विष्णुगुप्त) मगध को साम्राज्य विस्तार के लिए प्रोत्साहित करने आया| उस समय मगध अच्छा खासा शक्तिशाली था तथा उसके पड़ोसी राज्यों की आँखों का काँटा| पर तत्कालीन मगध के साम्राज्य घनानंद ने उसको ठुकरा दिया| उसने कहा कि तुम एक पंडित हो और अपनी चोटी का ही ध्यान रखो “युद्ध करना राजा का काम है तुम पंडित हो सिर्फ पंडिताई करो” तभी से चाणक्य ने प्रतिज्ञा लिया की घनानंद को सबक सिखा के रहेगा|

इसके बाद रात भर में जासूसों (गुप्तचर) का एक जाल सा बिछा दिया गया जिससे राजा के खिलाफ गद्दारी इत्यादि की गुप्त सूचना एकत्र करने में किया जाता था-यह भारत में शायद अभूतपूर्व था| एक बार ऐसा हो जाने के बाद उसने चन्द्रगुप्त को यूनानी क्षत्रपों को मार भगाने के लिए तैयार किया| इस कार्य में उसे गुप्तचरों के विस्तृत जाल से मदद मिली| मगध के आक्रमण में चाणक्य ने मगध में गृहयुद्ध को उकसाया| उसके गुप्तचरों ने नन्द के अधिकारियों को रिश्वत देकर उन्हें अपने पक्ष में कर लिया| इसके बाद नन्द शासक ने अपना पद छोड़ दिया और चाणक्य को विजयी श्री प्राप्त हुई| नन्द को निर्वासित जीवन जीना पड़ा जिसके बाद उसका क्या हुआ ये अज्ञात है| चन्द्रगुप्त मौर्य ने जनता का विश्वास भी जीता और इसके साथ उसको सत्ता का अधिकार भी मिला|

मौर्य वंश का पतन:-

अशोक के उत्तराधिकारी अयोग्य निकले| इस वंश का अंतिम राजा बृहद्रथ मौर्य था| 185 ई.पू. में उसके सेनापति पुष्यमित्र शुंग ने उसकी हत्या कर डाली और शुंग वंश नाम का एक नया राजवंश आरम्भ हुआ|

मौर्य वंश की सैन्य व्यवस्था:-

भारत में सर्वप्रथम मौर्य वंश के शासनकाल में ही राष्ट्रीय राजनीतिक एकता स्थापित हुई थी| मौर्य प्रशासन में सत्ता का सुदृढ़ केन्द्रीयकरण था परन्तु राजा निरंकुश नहीं होता था| मौर्य काल में गणतंत्र का ह्रास हुआ और राजतंत्रात्मक व्यवस्था सुदृढ़ हुई| कौटिल्य ने राजा सप्तांक सिद्धांत निर्दिष्ट किया था, जिनके आधार पर मौर्य प्रशासन और उसकी गृह तथा विदेश नीति संचालित होती थी- राजा, अमात्य जनपद, दुर्ग, कोष, सेना और मित्र|

सैन्य व्यवस्था छः समितियों में विभक्त सैन्य विभाग द्वारा निर्दिष्ट थी| प्रत्येक समिति में पांच सैन्य विशेषज्ञ होते थे| पैदल सेना, अश्वग सेनागज सेना, रथ सेना तथा नौ सेना की व्यवस्था थी| सैनिक प्रबंध का सर्वोच्च अधिकारी अन्तपाल कहलाता था| यह सीमान्त क्षेत्रो का भी व्यवस्थापक होता था| मेगास्थनीज के अनुसार चन्द्रगुप्त मौर्य की सेना 6 लाख पैदल, 50 हजार अश्वारोही 9 हजार हाथी तथा 8 सौ रथों से सुसज्जित अजेय सैनिक थे|

मौर्य साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र (आधुनिक पटना) थी| इसके अतिरिक्त साम्राज्य को प्रशासन के लिए चार और प्रान्तों में बांटा गया था| पूर्वी भाग की राजधानी तौसाली थी तो दक्षिणी भाग की सुवर्णगिरि| इसी प्रकार उत्तरी तथा पश्चिमी भाग की राजधानी क्रमशः तक्षशिला तथा उज्जैन (उज्जयिनी) थी| इसके अतिरिक्त समापा, इशिला तथा कौशाम्बी भी महत्वपूर्ण नगर थे| राज्य के प्रान्तपालों कुमार होते थे जो स्थानीय प्रान्तों के शासक थे| कुमार की मदद के लिए हर प्रान्त में एक मंत्रीपरिषद तथा महामात्य होते थे| प्रान्त आगे जिलों में बंटे होते थे| प्रत्येक जिला गाँव के समूहों में बंटा होता था| प्रदेशिकजिला प्रशासन का प्रधान होता था| रज्जुक जमीन को मापने का काम करता था| प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी जिसका प्रधान ग्रामिक कहलाता था|

मौर्य शासक कौन कौन थे:-
क्र. सं. शासक शासन काल
1 चन्द्रगुप्त मौर्य 322 ईसा पूर्व- 298 ईसा पूर्व
2 बिन्दुसार 298 ईसा पूर्व- 272 ईसा पूर्व
3 अशोक 273 ईसा पूर्व- 232 ईसा पूर्व
4 दशरथ मौर्य 232 ईसा पूर्व- 224 ईसा पूर्व
5 सम्प्रति 224 ईसा पूर्व- 215 ईसा पूर्व
6 शालिसुक 215 ईसा पूर्व- 202 ईसा पूर्व
7 देववर्मन 202 ईसा पूर्व- 195 ईसा पूर्व
8 शतधन्वन मौर्य 195 ईसा पूर्व- 187 ईसा पूर्व
9 बृहद्रथ मौर्य 187 ईसा पूर्व- 185 ईसा पूर्व
मौर्य शासकों का इतिहास:-

चन्द्रगुप्त मौर्य 

चन्द्रगुप्त मौर्य (राजः 323-298 ईसा पूर्व) प्राचीन भारत में मौर्य साम्राज्य के पहले संस्थापक थे| वे ऐसे शासक थे जिन्होंने पुरे भारत को एक एक साम्राज्य के अधीन लाने में सफल रहे| उनका साम्राज्य पूर्व में बंगाल से अफगानिस्तान और बलेचिस्तान तक और पश्चिम के पाकिस्तान से हिमालय और कश्मीर के उत्तरी भाग में फैला हुआ था| और साथ ही दक्षिण में प्लैटों तक विस्तृत था| भारतीय इतिहास में चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल को सबसे विशाल शासन माना जाता है|

बिन्दुसार

चन्द्रगुप्त मौर्य के पुत्र बिन्दुसार मौर्य साम्राज्य के अगले शासक हुवे| इतिहास में प्रसिद्ध शासक सम्राट अशोक बिन्दुसार के ही पुत्र थे| उन्होंने लगभग 25 सालों तक शासक किया|

सम्राट अशोक 

सम्राट अशोक भारत के महान शक्तिशाली समृद्ध सम्राटो में से एक थे| वें मौर्य साम्राज्य के शासक बिन्दुसार के पुत्र थे| उन्होंने लगभग 41 सालों तक शासन किया| अशोक मौर्य जो साधारणतः अशोका और अशोका – एक महान के नाम से जाने जाते है|

दशरथ मौर्य 

सम्राट अशोका के पोते दशरथ मौर्य उस साम्राज्य के 5 वें शासक थे| दशरथ शाही शिलालेख जारी करने के लिए मौर्य राजवंश के अंतिम शासक थे- इस प्रकार अंतिम मौर्य सम्राट को शिलालेख के सूत्रों से जाना जाता है| उन्होंने लगभग 8 सालों तक शासन किया| दशरथ 224 ईसा पूर्व में मृत्यु हो गयी और उसके बाद उनके चचेरे भाई संप्रति ने इसका उत्तराधिकारी बना लिया|

सम्प्रति 

सम्प्रति मौर्य वंश के एक सम्राट थे| वह अशोका के अंधे पुत्र कुणाल के पुत्र थे, और अपने चचेरे भाई दशरथ के बाद मौर्य साम्राज्य के सम्राट के रूप में सफल हुए थे| उन्हेंने 9 वर्ष तक शासन किया|

शालिसुक 

शालिशूका मौर्य भारतीय मौर्या वंश का शासक था| उन्होंने 215-202 ईसा पूर्व से लगभग 13 सालों तक शासक किया| वह सम्प्रति मौर्य के उत्तराधिकारी थे|

देववर्मन 

देववर्मन 202-195 ईसा पूर्व शासन करने वाला मौर्य साम्राज्य का सम्राट थे| पुराणों के अनुसार, वह शालिशुक मौर्य के उत्तराधिकारी थे और उन्होंने सात साल तक राज्य किया|

शतधन्वन मौर्य

शतधन्वन मौर्य मौर्य साम्राज्य के देववर्मन मौर्य के उत्तराधिकारी थे और वे आठ वर्षों तक राज्य करते रहे| अपने समय के दौरान, आक्रमणों के कारण उन्होंने अपने साम्राज्य के कुछ प्रदेशों को खो दिया|

बृहद्रथ मौर्य

बृहद्रथ मौर्य मौर्य साम्राज्य के अंतिम शासक थे| 187-185 ईसा पूर्व तक उन्होंने शासन किया| उन्हें उनके ही एक मंत्री पुष्यमित्र शुंग ने मार दिया था| जिसने शंग साम्राज्य स्थापित किया|

मौर्य वंश से संबंधित परीक्षा में आने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न:-
  • सबसे प्राचीनतम राजवंश कौन-सा है- मौर्य वंश 
  • मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की- चन्द्रगुप्त मौर्य 
  • मौर्य वंश की स्थापना कब की गई- 322 ई. पू.
  • कौटिल्य/चाणक्य किसका प्रधानमंत्री था- चन्द्रगुप्त मौर्य का 
  • चाणक्य का दूसरा नाम क्या था- विष्णु गुप्त 
  • चन्द्रगुप्त के शासन विस्तार में सबसे अधिक मदद किसने की- चाणक्य ने 
  • किसकी तुलना मैकियावेली के ‘प्रिंस’ से की जाती है- कौटिल्य का अर्थशास्त्र 
  • किस शासक ने सिंहासन पर बैठने के लिए अपने बड़े भाई की हत्या की थी- अशोक 
  • सम्राट अशोक के उस पत्नी का नाम क्या था जिसने उसे प्रभावित किया था- कारुवाकी
  • अशोक ने सभी शिलालेखों में एक रूपया से किस प्राकृत का प्रयोग किया था– मागधी 
  • बिन्दुसार ने विद्रोहियों को कुचलने के लिए अशोक को कहाँ भेजा था- तक्षशिला
  • किस सम्राट का नाम ‘देवान प्रियादर्शी’ था- सम्राट अशोक 
  • किस राजा ने कलिंग के युद्ध में नरसंहार को देखकर बौद्ध धर्म अपना लिया था- अशोक ने 
  • कलिंग का युद्ध कब हुआ- 261 ई. पू.
  • प्राचीन भारत का कौन सा शासक था जिसने अपने अंतिम दिनों में जैनधर्म को अपना लिया था- चन्द्र गुप्त मौर्य 

Some Details About Pdf:- 

  • PDF Name:- Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास) For UPSC Exams
  • Size:- 292 KB
  • Pages:- 8
  • Quality:- Good
  • Format:- PDF
  • Medium:- Hindi 

Must Read:-

इसे भी पढ़ें:- Mauryan Empire Notes in Hindi For UPSC (मौर्य साम्राज्य का इतिहास)

इसे भी पढ़ें:- UPSC History Optional Subject Syllabus in Hindi For IAS Examination

प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए Free Study Material Download करने के लिए  Wifigyan.com पर रेगुलर Visit करते रहे|और अगर आप लोगो को हमारा यह प्रयास अच्छा लगे तो हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों तक जरुर पहुचाये  इससे उनको भी फयदा होगा |हमारा यह प्रयास की आप लोगो को फ्री Study Material मिलता रहे सतत जारी रहेगा |धन्यवाद |

इसे भी पढ़ें:- History of Ancient India Pdf by परीक्षा मंथन Download For UPSC

इसे भी पढ़ें:- Indian History Quick Revision Notes By Drishti IAS Pdf Download

Mauryan Empire Pdf Download (मौर्य वंश का इतिहास)

Related Post:-

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends on social media. To get daily information about our post please Click The Bell Icon Which is Given Below.

Disclaimer
Wifi Gyan does not own this book, neither created nor scanned. We just provide the link already available on the internet. If anyway it violates the law or has any issues then kindly mail us: wifigyan.com@gmail.com
error: Content is protected !!